Fri. Feb 28th, 2020

Kaalamita News

Women World

Rose Day 2020: चाशनी से भी मीठी गुलकंद में छिपे हैं कई हेल्‍थ सीक्रेट,पढ़िए इसे खाने से क्‍या होता….

1 min read

नई दिल्ली :  रोज डे (Rose Day) के साथ ही आज से वेलेंटाइन डे वीक की शुरुआत हो गई। आज कई युवा हाथों में खूबसूरत सा गुलाब थामें अपने प्‍यार का इजहार करेंगे। फरवरी की इन सर्द हवाओं में गुलाब की भीनी-भीनी खुश्‍बु ही महकेंगी। ये तो हो गई प्‍यार-मोहब्‍बत की बातें लेक‍िन क्‍या आप जानते हैं द‍िल के मर्ज पर मरहम सा काम करने वाला गुलाब के फूल को सदियों से औषधि की तरह काम में ल‍िया जा रहा हैं।गुलाब की पंखुड़ियों में कई औषधीय गुण मौजूद होते हैं जो शरीर के कई रोगों को दूर करता हैं। सदियों से हमारे यहां माउथ फ्रेशनर के तौर पर गुलकंद खाने का र‍िवाज हैं। गुलकंद, गुलाब और चीनी की मिश्रण से बनकर तैयार होती है। आयुर्वेद के अनुसार इसमें मौजूद कूल‍िंग एजेंट शरीर के तापमान को और पित दोष को नियंत्रित करता हैं।

गुलकंद शरीर के अंगों को ठंडक प्रदान करता है। शरीर में गर्मी बढ़ जाने पर गुलकंद का सेवन बेहद लाभदायक होता है और गर्मी से पैदा हुई समस्याओं से निजात दिलाता है। ये लू से भी बचाता है।गुलकंद का नियमित सेवन दिमाग के लिए भी बेहद लाभकारी है। बस एक चम्मच गुलकंद सुबह और शाम के वक्त खाने से न केवल आपके दिमाग को तरावट मिलेगी, दिमाग शांत भी रहेगा और गुस्सा भी नहीं आएगा।कब्ज या अपच की समस्या होने पर यह रामबाण उपाय है। रोजाना गुलकंद का सेवन कब्ज से निजात दिलाएगा और भूख बढ़ाने के साथ ही पाचन तंत्र को भी सुचारू करने में सहायक होगा।

गर्भावस्था में यह विशेष लाभकारी और सुरक्षित है।आंखों की रोशनी बढ़ाने और ठंडक प्रदान करने के लिए गुलकंद का उपयोग करना बेहतर तरीका है। यह आंखों में जलन एवं कंजक्ट‍िवाइटिस की समस्या से भी आपको निजात दिलाएगा।मुंह के छालों एवं त्वचा समस्याओं के लिए भी गुलकंद का प्रयोग बेहद फायदेमंद है। वहीं थकान और ऊर्जा में कमी होने पर भी गुलकंद लाभदायक साबित होगा।गर्मी में शरीर में खूब पसीना आता है और इसके कारण बदबू आती है।

गुलकंद पसीना आने की समस्या में भी लाभकारी होता है। इसके अलावा गुलकंद शरीर से विषैले पदार्थों को निकलाने मे मदद करता है।गुलाब चेहरे के सौंदर्य को भी बढ़ाता हैं। गुलकंद का सेवन त्वचा संबंधी कई समस्याओं जैसे मुंहासों और व्हाइटहेड्स से छुटकारा दिलाने में मदद कर सकता है। हालांकि, इस तथ्य की पुष्टि के लिए ठोस प्रमाण उपलब्ध नहीं है। इसलिए, त्वचा के लिए गुलकंद का इस्तेमाल करने से पहले एक बार त्वचा विशेषज्ञ से परामर्श जरूर कर लें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Categories

Social menu is not set. You need to create menu and assign it to Social Menu on Menu Settings.